Vitamin B12 Gharelu Upay: विटामिन बी 12 की सबसे अच्छी दवा,कार्य, लक्षण और इलाज

vitamin b12 ki kami se kya hota hai विटामिन B12 विटामिन बी कॉन्प्लेक्स वैसे ही एक विटामिन है सामान्यतः विटामिन बी कॉन्प्लेक्स में सात विटामिन है जिनमें से B12 के बारे में आज हम जानेंगे पर इससे पहले हम सभी विटामिनों के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी ले लेते हैं। 

vitamin-b12-gharelu-upay,vitamin b12,vitamina b12,vitamin b12 meat,vitamin b12 diet,vitamin b12 foods,vitamin b12 sources,vitamin b12 ki kami,vitamin b12 benefits,vitamin b12 deficiency,vitamin b12 absorption,vitamin b12 supplement,benefits of vitamin b12,vitamin b12 ke liye diet,vitamin b12 ke liye aahar,vitamin b12 ki kami ke upay,vitamin b12 deficiency signs,vitamin b12 ki kami ka karan,vitamin b12 deficiency causes,vitamin b12 deficiency anemia,vitamin b12 ki kami ke nuksan

  • विटामिन बी१ (थायामिन): थायामिन शरीर के ऊर्जा मेटाबोलिज्म, न्यूरोलॉजिकल कार्य, और कार्बोहाइड्रेटों के अवशोषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • विटामिन बी२ (रिबोफ्लेविन): रिबोफ्लेविन रासायनिक क्रियाओं, ऊर्जा उत्पादन, और एंटीऑक्सीडेंट कार्यों में मदद करता है।
  • विटामिन बी३ (नियासिन): नियासिन ऊर्जा उत्पादन, पाचन प्रक्रिया, और स्किन के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।
  • विटामिन बी५ (पैंथोथेनिक एसिड): पैंथोथेनिक एसिड मेटाबोलिक कार्यों, एन्जाइम संश्लेषण, और हेयर और स्किन के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।
  • विटामिन बी६ (पाइरिडोक्सीन): पाइरिडोक्सीन आमाशयिक क्रियाओं, हेमोसिस्टीन मेटाबोलिज्म, और न्यूरोलॉजिकल कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है।
  • विटामिन बी९ (फोलिक एसिड): फोलिक एसिड सेल विभाजन, एचडीएल निर्माण, और गर्भावस्था में बच्चे के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है।
  • विटामिन बी१२ (कोबालामिन): कोबालामिन रक्त कोशिकाओं के गठन, डीएनए संश्लेषण, न्यूरोलॉजिकल कार्य, और नर्वसंचार प्रणाली की रखरखाव के लिए आवश्यक है।

बी कांपलेक्स में विटामिन B12 की अहम भूमिका है यह हमारे शरीर में कई प्रकार के कार्य करता है और यदि हमारे शरीर में इसकी कमी हो जाती है। तो वह हमारे लिए कई बीमारियों का कारण भी बन सकती है कई ऐसी आदत भी होती है जिनके कारण हमारे शरीर में विटामिन B12 के निर्माण में कमी आ जाती है। और उसके कारण अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़ता है आज हम इन समस्याओं से निवारण लाने की कोशिश करेंगे।

Table of Contents

विटामिन B12 के कार्य

रक्त कोशिका उत्पादन: विटामिन बी१२ रक्त कोशिकाओं के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह रक्ताल्पता (अनेमिया) से बचाने में मदद करता है और सामान्य रक्त प्रवाह को बनाए रखता है।

डीएनए संश्लेषण: विटामिन बी१२ कोबालामिन डीएनए संश्लेषण (डीएनए सिंथेसिस) में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह सुनिश्चित करता है कि नवीनतम और स्वस्थ डीएनए मोलेक्यूलें उत्पन्न होती हैं।

न्यूरोलॉजिकल कार्य: विटामिन बी१२ न्यूरोलॉजिकल कार्यों के लिए आवश्यक होता है। यह न्यूरोन्स के आदान-प्रदान प्रणाली को स्थिर रखने में मदद करता है और न्यूरोन्स के स्वस्थ्य और सही कार्यक्षमता को सुनिश्चित करता है।

स्वस्थ नर्वसंचार प्रणाली: विटामिन बी१२ नर्वसंचार प्रणाली के लिए आवश्यक होता है। यह मियलिन को बनाने में मदद करता है, जो न्यूरोन्स के आस्तीन कोट (प्रोटेक्शन) करता है और संदेशों के सही प्रवाह को सुनिश्चित करता है।

एनर्जी उत्पादन: विटामिन बी१२ मदद करता है उर्जा उत्पादन प्रक्रिया में। यह कार्बोहाइड्रेटों को ऊर्जा में परिवर्तित करने में मदद करता है, जिससे शरीर एनर्जी का सही स्तर बनाए रख सकता है।

विटामिन B12 की कमी के लक्षण

  • थकान और थकावट
  • पेट में समस्याएं जैसे कि दर्द, गैस, और पेट की खराबी
  • आंत्र में समस्याएं जैसे कि दस्त, कब्ज़, और अपच
  • आंखों में अस्पष्ट देखाई देना और आंखों के पास बार-बार लाली होना
  • मसूढ़ों में दर्द और संक्रमण

  1. पेशीय कमजोरी: विटामिन बी१२ की कमी के कारण पेशियों में कमजोरी हो सकती है। यह शरीर की ऊर्जा स्तरों को प्रभावित करके थकान और कमजोरी का कारण बन सकता है।
  2. न्यूरोलॉजिकल लक्षण: विटामिन बी१२ की कमी न्यूरोलॉजिकल संक्रमणों के लक्षण प्रकट कर सकती है। यह शामिल हो सकते हैं: मस्तिष्किक अस्थानिकता, न्यूरोपाथी, मेमोरी कमजोरी, डिप्रेशन, चक्कर आना, और शारीरिक असंतुलन।
  3. पाचन संबंधी समस्याएं: विटामिन बी१२ की कमी के कारण पाचन संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इनमें शामिल हो सकते हैं: दस्त, घावी जीभ (जीभ में उलट रंगने का लक्षण), अपेटाइट की कमी, और पेट में गैस और पेट में दर्द।
  4. परिधियां: विटामिन बी१२ की कमी के कारण परिधियों में समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इनमें दांतों और मसूड़ों के दर्द, जीभ के सुन्न होने का अनुभव, और मुँह में छाले शामिल हो सकते हैं।
  5. रक्ताल्पता: विटामिन बी१२ की कमी से रक्ताल्पता उत्पन्न हो सकती है। इसके लक्षणों में पेलिशिया (पीली त्वचा), चक्कर, सांस लेने में तकलीफ, थकान, और दिल की धड़कन का तेज होना शामिल हो सकते हैं।

विटामिन B12 की कमी से होने वाली बीमारियां

  • पेर्निशियस एनीमिया: यह एक रक्ताल्पता है जो विटामिन बी१२ की कमी के कारण होती है। बीमारी में रक्त कोशिकाओं की गठन में समस्या होती है, जिससे रक्त कोशिकाएं सामान्य संख्या से कम हो जाती हैं।
  • न्यूरोलॉजिकल विकार: विटामिन बी१२ की कमी न्यूरोलॉजिकल संक्रमणों और समस्याओं, जैसे कि न्यूरोपैथी, मस्तिष्किक अस्थानिकता, मेडुलरी थायामिनिक विकार, और न्यूरोपाथी के रूप में प्रकट हो सकती हैं।
  • डीमेंशिया: विटामिन बी१२ की कमी लंबे समय तक शरीर में बनी रहने पर मस्तिष्क के क्षेत्र में क्षति का कारण बन सकती है। इससे मस्तिष्क कार्यक्षमता में कमी होती है और डीमेंशिया की संभावना बढ़ जाती है।
  • न्यूरोपैथी: विटामिन बी१२ की कमी से प्राथमिक न्यूरोपैथी या पीरिफेरल न्यूरोपैथी उत्पन्न हो सकती है। इसमें नसों की कमजोरी, सूजन, और शारीरिक दर्द होता है।

विटामिन B12 कम होने के कारण

आपका आहार-विहार सही मात्रा में ना हो आपका भोजन ऐसा हो सकता है। जिसमें से विटामिन B12 कम मात्रा में प्राप्त होता हो अगर आप एल्कोहल का सेवन करते हैं। तो यह भी विटामिन B12 की कमी के कारणों में से करो सकता है आपकी दिनचर्या सही ना हो यदि आप दूसरी किसी बीमारी की गोलियां ले रहे हो तो कई ऐसी भी दवाइयां है जो B12 के निर्माण को बाधित करने का कार्य करती है ऐसी बहुत ही कम दवाइयां है। इसीलिए यह कारण आपके लिए वह भी सकता है और नहीं भी हो सकता।

विटामिन B12 के घरेलू उपाय

यदि आपके विटामिन B12 स्तर में कमी है, तो निम्नलिखित घरेलू उपाय आपकी सहायता कर सकते हैं:

1. विटामिन B12 युक्त आहार

विटामिन B12 की प्रमुख स्रोत होते हैं जैसे कि मछली, मांस, अंडे, दूध, दही, और पनीर। इन खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करने से आप अपने विटामिन B12 स्तर को बनाए रख सकते हैं।

2. दूध और दैहिक उत्पादों का सेवन

दूध और दैहिक उत्पादों में विटामिन B12 होता है, इसलिए इनका नियमित सेवन आपके विटामिन B12 स्तर को सुनिश्चित कर सकता है। दूध, दही, छाछ, और पनीर इस उद्देश्य के लिए उत्तम स्रोत हैं।

3. सप्लीमेंट्स

यदि आपके विटामिन B12 स्तर कम हैं और आप उचित आहार को प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं, तो आप विटामिन B12 सप्लीमेंट्स का सेवन कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए और सही मात्रा में सप्लीमेंट्स लेने के लिए उनकी दिशा निर्देशों का पालन करना चाहिए।

विटामिन B12 के लिए कौन सी सब्जी खाएं?

विटामिन B12 सब्जियों में नहीं पाया जाता है, इसलिए विटामिन B12 की सब्जियाँ खाने से आप अपने विटामिन B12 स्तर को बढ़ाने में मदद नहीं पा सकते हैं। विटामिन B12 सबसे अधिक मांस, मछली, अंडे, दूध, दही, और पनीर में पाया जाता है। इन आहारों को अपने आहार में शामिल करने से आप विटामिन B12 की कमी को पूरा कर सकते हैं।

विटामिन B12 की सबसे अच्छी दवा


कौन सी है विटामिन B12 की आदेशिका दवाओं में सबसे अच्छी और प्रभावी होती हैं:

1. मेथिकोबालामीन

मेथिकोबालामीन विटामिन B12 की सबसे प्रभावी और अच्छी दवा है। यह आमतौर पर इंजेक्शन के रूप में दी जाती है और शरीर के भीतर सीधे विटामिन B12 की सप्लाई करती है। इसका उपयोग विटामिन B12 की कमी के इलाज के लिए किया जाता है।

2. साइनोकोबालामीन

साइनोकोबालामीन भी एक प्रकार का विटामिन B12 है और इसका उपयोग विटामिन B12 की कमी के इलाज के लिए किया जाता है। यह भी आमतौर पर इंजेक्शन के रूप में दी जाती है।

विटामिन b12 के स्रोत – विटामिन B12 की कमी कैसे पूरी करें

  • आहार में विटामिन बी१२ समृद्ध खाद्य पदार्थों को शामिल करें: बी१२ समृद्ध आहार खाने से आप अपनी बी१२ आपूर्ति को बढ़ा सकते हैं। इसमें मछली, मांस, अंडे, दूध, दही, पनीर, और खमीरी रोटी जैसे आहार पदार्थ शामिल हो सकते हैं।
  • विटामिन बी१२ की खुराक सप्लीमेंट्स का उपयोग करें: यदि आपकी बी१२ की कमी ज्यादा है, तो आपका चिकित्सक आपको विटामिन बी१२ के खुराक सप्लीमेंट्स या आवर्ती इंजेक्शन की सलाह दे सकता है। इससे आपके शरीर में बी१२ की स्तर को पूरा किया जा सकता है।
  • नियमित जांच और चिकित्सा सेवाओं का उपयोग करें: यदि आपको बी१२ की कमी होने की आशंका है या आपको पहले से ही बी१२ की कमी है, तो नियमित जांच और चिकित्सा सेवाओं का उपयोग करें। इससे आपके चिकित्सक आपको सही खुराक और उपचार प्रदान कर सकेंगे।
  • विटामिन बी१२ की कमी के कारणों का पता करें: आपकी बी१२ की कमी का कारण क्या है, इसका पता करना महत्वपूर्ण है। कई बार अन्य स्वास्थ्य समस्याएं बी१२ की कमी का कारण हो सकती हैं। इसलिए, उस समस्या के संकलन और उपचार के साथ-साथ बी१२ की कमी को पूरा करने का प्रयास करें।

विटामिन B12 की अधिक मात्रा लेने के कुछ लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  • थकान और थकावट: बहुत अधिक विटामिन B12 के सेवन से थकान और थकावट की स्थिति बढ़ सकती है। यह अधिक मात्रा में विटामिन B12 की कारण हो सकता है क्योंकि यह एनर्जी के बनाने में मदद करता है।
  • स्वास्थ्य समस्याएं: विटामिन B12 की अधिक मात्रा लेने से कुछ स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इनमें पेट दर्द, एलर्जी, त्वचा की समस्याएं, उल्टी, चक्कर, तापमान में वृद्धि, पसीना बहना, नींद न आना, मतली, मुंह में अंधापन, आंखों की समस्याएं, दृष्टि कमजोरी और एकदिवसीय प्रकटिकरण शामिल हो सकते हैं।
  • दिमागी समस्याएं: विटामिन B12 की अधिक मात्रा लेने से दिमागी समस्याएं भी हो सकती हैं। इनमें चिंता, अवसाद, भूलने की समस्या, मनोदशा में बदलाव, व्याकुलता और चिड़चिड़ापन शामिल हो सकता है।
  • यदि आपको लगता है कि आपके शरीर में विटामिन B12 की अधिक मात्रा हो रही है, तो आपको अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए। चिकित्सक आपकी स्थिति का मूल्यांकन करेंगे और उचित उपचार सुझाएंगे।

FAQs

1. क्या विटामिन B12 के कमी का कारण वेजेटेरियन खाद्यानुसारी हो सकता है?

जी हां, वेजेटेरियन खाद्यानुसारी लोगों में विटामिन B12 की कमी हो सकती है, क्योंकि विटामिन B12 सब्जियों में नहीं पाया जाता है। इसलिए, वेजेटेरियन खाद्यानुसारी लोगों को विटामिन B12 के स्रोत के लिए सप्लीमेंट्स लेने की आवश्यकता हो सकती है।

2. क्या विटामिन B12 की कमी के कारण बालों का झड़ना हो सकता है?

हां, विटामिन B12 की कमी के कारण बालों का झड़ना हो सकता है। विटामिन B12 की कमी से रक्तस्राव कम हो जाता है, जिसके कारण बालों के पोषण में कमी होती है। इससे बालों का झड़ना शुरू हो सकता है।

3. क्या विटामिन B12 की कमी का कारण थकान और कमजोरी हो सकती है?

जी हां, विटामिन B12 की कमी के कारण थकान और कमजोरी हो सकती है। विटामिन B12 शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है और रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है। यदि विटामिन B12 की कमी होती है, तो शरीर में ऊर्जा की कमी हो सकती है और आपको थकान और कमजोरी का अनुभव हो सकता है।

4. क्या विटामिन B12 की कमी के कारण पेट में समस्याएं हो सकती हैं?

हां, विटामिन B12 की कमी के कारण पेट में समस्याएं हो सकती हैं। विटामिन B12 की कमी से पाचन तंत्र में असामान्यता हो सकती है, जिसके कारण पेट में समस्याएं जैसे कि पेट दर्द, अपच, और पेट की सूजन हो सकती है।

5. क्या विटामिन B12 की कमी के कारण मानसिक समस्याएं हो सकती हैं?

हां, विटामिन B12 की कमी के कारण मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। विटामिन B12 की कमी से न्यूरोलॉजिकल समस्याएं जैसे कि डिप्रेशन, अवसाद, चिंता, और याददाश्त में कमजोरी हो सकती है।

2 thoughts on “Vitamin B12 Gharelu Upay: विटामिन बी 12 की सबसे अच्छी दवा,कार्य, लक्षण और इलाज”

Leave a comment